Home Tags Atmadhan

Tag: atmadhan

मातृभाषेचे महत्त्व

0
संसारामध्ये कोणताही व्यापारी व्यापारासाठी जेवढी गुंतवणूक करतो. तेवढ्याच अधिक फायद्याचा भागीदार तो बनतो. अशाप्रकारे लक्ष, कोटी, अब्ज असा जेवढा अधिक खर्च केला जातो. तेवढाच...

व्यक्ति एक व्यक्तित्व अनेक-ब्रह्माकुमार भ्राता जगदीश चन्द्र एक जीवन्त जीवन-पथ

0
कर्मभोग का आगमन 1. किसी भी कार्य में सफलता प्राप्त करने का सबसे सहज साधन है - वृत्ति द्वारा वायब्रेशन बनाना और वायब्रेशन द्वारा वायुमण्डल...

आत्मिक शांति की खोज

0
ध्यान अभ्यास अनुभव संत चरनदास जी उनके गुरु थे। वे फरमा रही हैं कि मैं अपना तन-मन सब कुछ गुरु पर न्योछावर करती हूँ। मैं...

गणेशपुराणात शमीपूजनाची दिलेली कथा

0
मालव देशात और्व नावाचा महाज्ञानी व तपोनिष्ठ ऋषी राहात असे. योगसामर्थ्याने त्याला वस्तू मिळवता येत. त्याला शमी नावाची मुलगी होती. धौम्य ऋषींचा मुलगा मंदार...

कलियुगापूर्वीच्या युगांतील खरे गुरू, कलियुगातील बहुतांशी भोंदू गुरू आणि गुरुकृपायोगाचे महत्त्व!

0
कलियुगातील बहुसंख्य गुरू भोंदू असल्यामुळे त्यांच्या भक्तांची होणारी अपरिमित हानी! आता कलियुगात खरे गुरू जेमतेम १,००० असतील. कलियुगात गुरू म्हणून मिरवणारे बहुतेक गुरू भोंदूच आहेत....

आत्मिक शांति की खोज

0
ध्यान अभ्यास अनुभव कबीर साहिब को 'Father of Sant-Mat'(’संत-मत का पिता’) कहा जाता है। संत-मत सृष्टि के शुरूआत से ही है। प्रभुने जब अपनी मौज...

श्रावणोत्सव

0
निसर्गचक्र आणि परंपरा या दोन्ही दृष्टीने श्रावणाला महत्त्व आहे. चातुर्मासातील श्रेष्ठ महिना म्हणून श्रावणाचे वर्णन केले जाते. आषाढी अमावस्या दीपपूजन, तथा दिव्यांची आवस झाली...

आत्मिक शांति की खोज -ध्यान अभ्यास अनुभव

0
परमात्मा के बारे में बहुत से महापुरुषों ने बहुत कुछ लिखा है। हर एक संत-महात्मा ने हमें यह समझाने की कोशिश की है कि...

‘मेरा’ सुख ‘किसके’ हाथ – हर रोज मन की जाँच करें

0
कुछ समय पहले मैंने अपने मित्र से किसी मामले पर विचार-विमर्श करने के लिए बात-चीत शुरू की, लेकिन मेरी बात का उत्तर देने की...

अनमोल रत्न (भाग – 1) (शिक्षाप्रद आध्यात्मिक कथाएँ)

0
कबीर और सर्वाजीत कबीर साहब बैठे हुए कपड़ा बुन रहे थे, क्योंकि उनका पेशा जुलाहे का था। यह भी एक अजीब बात है कि जुलाहा...

MOST POPULAR

HOT NEWS

error: Content is protected !!