Home Tags Aatmdhan

Tag: aatmdhan

आंतरिक बल (भाग – 1)-स्व संवाद

0
जिन्हें प्यार लता वही नारियों के साथ जघन्य अपराध करते हैं। ये जो रोग है वह भी प्यार की कमी सौदा होते हैं। कोई...

आंतरिक बल (भाग – 1)-स्व संवाद

0
दूसरों का शोषण करने। की सोचते हैं। उन्हें दबाने व कुचलने की सोचते हैं। गालियां देते हैं। निंदा करते हैं। संसार के। सारे सुख...

आंतरिक बल (भाग – 1)-स्व संवाद

0
शरीर पर लावण्य आने लगता है। मुख पर प्रसन्नता का भाव होता है। दृष्टि में समता, करुणा व दिव्य प्रेम होता है। विचारों में...

दिव्य चिंगारी -भाग – 1 (दिव्य चिंगारीस पेटवा) 3. चिंगारीला वेगाने...

0
एकदा जर अग्नी प्रज्वलीत झाला तर त्यास जळत ठेवण्याकरता त्याच्यावर लक्ष द्यावे लागते. त्याकडे लक्ष देऊन, त्याचे रक्षण करावे लागते कारण तो विझू नये....

दिव्य चिंगारी-भाग – 1 (दिव्य चिंगारीस पेटवा) 3. दिव्य चिंगारी

0
जी वस्तु सद्गुरू देतात ती अलौकीक आहे. ती अशीच कोणाकडेही मिळत नाही. इतर सगळ्या शिक्षकांकडून आम्ही बाहेरील सृष्टीचे ज्ञान (अपरा विद्या) मिळवितो. पण सद्गुरूंकडून...

आंतरिक बल (भाग – 1)-स्व संवाद

0
जिनके कारण मन में तनाव सदा बना रहेगा चाहे आप कितने भी नामी ग्रामी हो। आप का योग नहीं लगेगा सिर्फ लोगों को योग...

आंतरिक बल (भाग – 1)-स्व संवाद

0
एक शब्द मन में दोहराते रहो कि आप स्नेही हैं। चाहे वह स्वीकार करता हो या नहीं करता / करती हो। जिंदगी में सदा...

दिव्य चिंगारी-भाग – 1 (दिव्य चिंगारीस पेटवा) 3. दिव्य चिंगारी

0
जेव्हा आमचा आत्मा कारण मंडळात पोहचतो तेव्हा तो कारण शरीर व कारण मनाद्वारे कार्यान्वीत होतो आणि यांच्याद्वारेच तो कारण मंडळांशी संपर्क करतो. जडतेच्या या...

आंतरिक बल (भाग – 1)-स्व संवाद

0
हम अपने जीवन में वैसी ही वस्तुये आकर्षित करते हैं जैसे मन में विचार होते हैं। आप अपने अन्दर कैसे विचार रखते हैं यह...

दिव्य चिंगारी- भाग – 1 (दिव्य चिंगारीस पेटवा) शोध चिंगरीचा

0
निर्माण झालेली होती की, न म्हणून आत्तापर्यंत त्या होण्याच्या शक्यतेने प्रेरीत रणांच्या प्रकाशात त्या दिगार्‍याखाली त्यास काही त्या गुफेबद्दल लोकांच्या मनात अशी भिती निर्माण...

MOST POPULAR

HOT NEWS

error: Content is protected !!