सच्चा सुख (शिक्षाप्रद आध्यात्मिक कथाएँ) – बसंत ऋतु

इस शब्द में गुरु अर्जनदेव जी महाराज हमें समझा रहे हैं कि हम अपने आपको दुनिया से हटाकर अंतर्मुख करें। खुशियों के ख़ज़ाने हमारे अंतर में हैं। जब हम अंतर्मुख होकर अपना ध्यान शिव-नेत्र पर एकाग्र करते हैं, तो हमारी आत्मा की लम्बी अँधेरी रात समाप्त हो जाती है। जब हम अपना सारा ध्यान परमात्मा की ओर करेंगे, तो हम उसका ही रूप बन जायेंगे और जिस purpose से, जिस ध्येय की प्राप्ति के लिए हम इस दुनिया में आये हैं, वह पूरा हो जाएगा।

हमें होली खेलने के लिए होली के दिन का इंतजार नहीं करना चाहिए। हमें अंतर में अपने प्रियतम के साथ होली खेलनी है। बाहर की होली तो दुनिया के लोग खेलते हैं। जिन्होंने प्रभु को पाना है, उन्हें होली अंतर में अपने सत्गुरु के साथ खेलनी है और इस होली को खेलने के लिए हमें किसी विशेष दिन का इंतजार नहीं करना है। हम रोज़ होली खेल सकते हैं, पल-पल होली खेल सकते हैं। हमें केवल अंतर्मुख होना है। जब हम अपने प्रियतम से होली खेलेंगे, तो वे खुद-ब-खुद हमें प्रभु के दर्शन करवॉं देंगे।

ई- पेपर  बातम्या   आत्मधन  ज्योतिष  वास्तुशास्त्र  संस्कृती  आरोग्य  गृहिणी  पाककला  सौन्दर्य  मुलांचे विश्व  सुविचार  सामान्य ज्ञान   नोकरी विषयीक   प्रॉपर्टी   अर्थकारण   मनोरंजन   तंत्रज्ञान  क्रिडा  पर्यटन  निधनवार्ता   पोल  प्रश्नमंजुषा