सच्चा सुख (शिक्षाप्रद आध्यात्मिक कथाएँ) – तारणहार

उसके ज़रिये सचखंड तक पहुँच जायेंगे। आगे स्वामी जी महाराज फ़रमा रहे हैं :

गुरु से करना पहिले प्यार ।

नाम रस पीना मन को मार ॥

सबसे पहले हमें गुरु से प्यार करना है। असल में प्रेम हमें परमात्मा से करना है, लेकिन परमात्मा को इन आँखों से हम देख नहीं सकते, इन कानों से सुन नहीं सकते। जब हम उसे इन आँखों से देख नहीं सकते, इन कानों से सुन नहीं सकते, तब हम परमात्मा से कैसे प्यार करें ? सभी महापुरुष कहते हैं, हम गुरु से प्यार करें। प्रभु से प्यार करने का पहला कदम गुरु से प्यार करना है क्योंकि गुरु हमें अपने आपसे ’नहीं, बल्कि परमात्मा से जोड़ने आया है। अगली पंक्ति में फ़रमा रहे हैं :

नाम रस पीना मन को मार॥

अगर मन को मारना है, मन को काबू में लाना है, तो हमें नाम का अमृत पीना होगा। परम संत कृपालसिंह जी महाराज फ़रमाया करते थे, ’Love only knows service and sacrifice,’ प्रेम सिर्फ सेवा और त्याग करना जानता है। जब हमें प्रभु से प्रेम होगा तो सेवा-भाव खुद-ब-खुद आ जाएगा। संत कृपालसिंह जी महाराज यह भी फ़रमाया करते थे, ‘If you love me keep my commandments,’ अगर मुझ से प्यार करते हो तो मेरा कहना मानो। वे हमें समझाया करते थे कि हम डायरी भरें, ताकि सद्गुण हमारी जिंदगी का हिस्सा बन जायें। सबसे प्यार करें, मिलजुल कर बैठें। हम उनके वचनों के मुताबिक़ अपनी जिंदगी बनायें।

वे फ़रमाया करते थे कि रोजाना ढाई घंटे हम भजन-अभ्यास करें। हम बाकाइदगी से अपनी जिंदगी जीयें। जब तक हम नाम के अमृत के साथ नहीं जुड़ेंगे, जब तक रूहानियत के रास्ते पर नहीं चलेंगे, समय भजन-अभ्यास में नहीं देंगे, तब तक हम प्रभु से नहीं जुड़ सकेंगे। हमारा मन काल का एजेन्ट है, जिसका काम हमें दुनिया में फँसाए रखना है। कभी खुशी देकर, कभी दु…ख देकर, कभी depressed mood (निराश मन…स्थिति) में लाकर, मन हज़ारों तरीकों से हमें इस दुनिया में उलझाए रखता है। जब तक हम नाम से नहीं जुड़ते, शब्द से नहीं जुड़ते, तब तक हम मन को काबू में नहीं ला सकते। आगे स्वामी जी महाराज फ़रमा रहे हैं :

काल घर जान तजा संसार ।

दयाल घर आई जन्म सुधार ॥

संसार को, जिसको कि हम अपना समझ चुके हैं, यह अपना नहीं है। हम यह जानें कि यह हमारा नहीं, काल का घर है।

ई- पेपर  बातम्या   आत्मधन  ज्योतिष  वास्तुशास्त्र  संस्कृती  आरोग्य  गृहिणी  पाककला  सौन्दर्य  मुलांचे विश्व  सुविचार  सामान्य ज्ञान   नोकरी विषयीक   प्रॉपर्टी   अर्थकारण   मनोरंजन   तंत्रज्ञान  क्रिडा  पर्यटन  निधनवार्ता   पोल  प्रश्नमंजुषा